Home भारत यूपी पंचायत चुनाव टाल दिए होते तो सैकड़ों कर्मचारी नहीं मरते –...

यूपी पंचायत चुनाव टाल दिए होते तो सैकड़ों कर्मचारी नहीं मरते – मायावती

BSP अध्यक्ष मायावती ने यूपी में बढ़ते कोरोना संक्रमण के वक्त भी पंचायत चुनाव कराने को लेकर यूपी सरकार और चुनाव आयोग को घेरा।

412
0
blank
www.theshudra.com

आपका सहयोग हमें सशक्त बनाएगा

# हमें सपोर्ट करें

Rs.100  Rs.500  Rs.1000  Rs.5000  Rs.10,000

BSP अध्यक्ष मायावती ने यूपी में बढ़ते कोरोना संक्रमण के मुश्किल वक्त में भी सूबे में पंचायत चुनाव को ना टालने के कारण योगी सरकार और चुनाव आयोग को घेरा और साथ ही सैकड़ों कर्मचारियों की मौत हो जाने पर भी सवाल उठाया।

मायावती ने ट्विटर पर इस बारे में लिखा ‘कोरोना के बढ़ते प्रकोप के चलते यदि यू.पी. सरकार पंचायत चुनाव टाल देती, अर्थात् थोड़ा आगे बढ़ा देती तो यह उचित होता और फिर चुनाव डयूटी में लगे काफी कर्मचारियों की मृत्यु नहीं होती, जो अति-दुःखद।’

ड्यूटी के दौरान मरने वाले कर्मचारियों के परिवार को मिले सहायता

यूपी में पंचायत चुनाव के दौरान ड्यूटी कर रहे करीब सवा सौ कर्मचारी कोरोना वायरस की भेंट चढ़ चुके हैं। ऐसे मे मायावती ने मांग कि है कि पीड़ित परिवारों को मदद मिले। उन्होंने अपने दूसरे ट्वीट में लिखा ‘यू.पी. सरकार ऐसे सभी मृतक कर्मचारियों के आश्रित परिवार को उचित आर्थिक मदद करने के साथ ही उनके एक सदस्य को सरकारी नौकरी भी जरूर दे, बी.एस.पी. की यह माँग। ‘

ग्रामीण इलाकों पर भी ध्यान दें सरकार

मायावती ने अपने तीसरे ट्वीट में लिखा ‘इसके साथ ही, अब कोरोना प्रकोप के गाँव-देहातों में भी काफी फैलने की सम्भावना है। ऐसी स्थिति में यू.पी. सरकार शहरों के साथ-साथ देहातों में भी कोरोना की रोकथाम के लिए जरूरी कदम उठाए, बी.एस.पी. की यह सलाह।’

यूपी में कोरोना वायरस से बुरा हाल है लेकिन योगी सरकार कह रही है कि सूबे में ऑक्सीजन और बेड की कोई कमी नहीं जबकि सैकड़ों लोग बदइंतजामी के कारण दम तोड़ रहे हैं। ऐसे मुश्किल वक्त में चुनाव कराने को लेकर सरकारें और चुनाव आयोग निशाने पर हैं। फिलहाल यूपी में पंचायत चुनाव के लिए आखिरी दौर का मतदान 29 अप्रैल को संपन्न हो चुका है।

  telegram-follow   joinwhatsapp     YouTube-Subscribe

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here