Home भारत BSP की बैठक खत्म, 2024 के लोकसभा चुनाव के लिए मायावती ने...

BSP की बैठक खत्म, 2024 के लोकसभा चुनाव के लिए मायावती ने बनाया ये प्लान

2024 लोकसभा चुनाव के मद्देनज़र बसपा अध्यक्ष मायावती ने अपनी तैयारियां तेज़ कर दी हैं। मायावती ने आज लखनऊ में पार्टी कार्यालय में बड़ी बैठक की।

2424
0
blank
लखनऊ में पार्टी नेताओं के साथ बैठक करतीं बसपा अध्यक्ष मायावती। (फोटो-बसपा)

2024 लोकसभा चुनाव के मद्देनज़र बसपा अध्यक्ष मायावती ने अपनी तैयारियां तेज़ कर दी हैं। मायावती ने आज लखनऊ में पार्टी कार्यालय में बड़ी बैठक की। इस बैठक में यूपी बीएसपी समेत अन्य राज्यों के भी कई बड़े पदाधिकारी और नेता मौजूद रहे। अगले साल होने वाले लोकसभा चुनाव को ध्यान में रखते हुए मायावती ने सभी पदाधिकारियों को दिशा निर्देश दिए और पिछली बैठक में लिए गए फैसलों पर प्रगति रिपोर्ट भी मांगी।

लोकसभा चुनाव के लिए बसपा ने अपनी रणनीति साफ करते हुए बता दिया कि एक तरफ जहां बीजेपी हिंदू-मुस्लिम के झगड़े के सहारे चुनाव लड़ने की तैयारी में तो वहीं बसपा आम आदमी की समस्याओं और मुद्दों पर चुनाव में उतरेगी। हिंदुत्व की हवा निकालते हुए मायावती ने कहा बीजेपी की सरकारों को भी समझना होगा कि कथित लव जिहाद, लैंड जिहाद, धर्मांतरण, हिजाब, मज़ार, स्कूल-कॉलेज विध्वंस, मदरसा जांच, बुलडोज़र राजनीति और धार्मिक उन्माद फैलाने वाले नफरती और संकीर्ण बयानों व कार्रवाइयों आदि से देश भर में तनाव व दहशत का माहौल व्याप्त है जो देश की मज़बूती के लिए घातक है। सामाजिक बुराइयों की आड़ में धार्मिक उन्माद फैलाने को सख़्ती से सरकार को रोकना चाहिए।’

दलितों-मुसलमानों पर पर बढ़ते अपराध पर घेरा

मायावती ने दलितों और मुसलमानों पर बढ़ते उत्पीड़न पर भी सरकारों को कठघरे में खड़ा किया। उन्होंने कहा ‘सबके साथ न्याय करने का संवैधानिक कर्तव्य निभाने के बजाय ख़ासकर दलित व समुदाय विशेष के विरुद्ध भेदभाव एवं द्वेषपूर्ण रवैया संबंधी ख़बरें अख़बारों में हर दिन भरी रहती है जो कि ऐसा सरकारी व्यवहार क़तई भी उचित नहीं है। व्यापक देशहित के मद्देनज़र राजनीतिक व चुनावी स्वार्थ से ऊपर उठकर सरकारों को इसके समाधान की ओर समुचित ध्यान देने का दायित्व निभाना होगा’

देश की बेहतरी के लिए चुनौतियों को दूर करें – मायावती 

बसपा अध्यक्ष ने मोदी सरकार को देश के आम लोगों से जुड़ी समस्याओं को दूर करने की नसीहत देते हुए बेरोज़गारी और महंगाई की याद दिलाई। मायावती ने कहा ‘ऐसे कठिन समय में जब विश्व की अर्थव्यवस्था चरमराई हुई है और युक्रेन युद्ध के कारण हर देश केवल अपने हित की ही चिंता में व्यस्त है, ऐसे में भारत को अपने विकास व आत्मनिर्भरता के साथ ही जनता की सुख-शांति व ख़ुशहाली के लिए सभी प्रकार की संकीर्णता, राजनीति स्वार्थ एवं द्वेष आदि को त्याग कर पूरे समर्पण भाव के साथ विकास के लिए जुटना होगा और आंतरिक कलहों से भी बचना होगा, तभी देश बहु-आपेक्षित तरक़्क़ी करके महंगाई, ग़रीबी और बेरोज़गारी वग़ैरह से मज़बूती के साथ लड़ पाएगा। इसी क्रम में निर्यात घटने के कारण देश का व्यापार घाटा पिछले पाँच महीने के निचले स्तर पर पहुँचना सभी के लिए चिंता की बात होनी चाहिए’

यानी मायावती ने बीजेपी सरकार को मुद्दों की राजनीति करने को कहा… बहनजी की बातों से तो यही लगता है कि वो 2024 में जनता से जुड़े मुद्दों के आधार पर ही चुनाव लड़ना चाहती हैं। मायावती की सक्रियता को देखते हुए लग रहा है कि आने वाले दिनों में बड़ी रैली भी कर सकती हैं।

  telegram-follow   joinwhatsapp     YouTube-Subscribe

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here