Home विमर्श कोरोना संकट : बीजेपी नेताओं का भी बुरा हाल, सोशल मीडिया पर...

कोरोना संकट : बीजेपी नेताओं का भी बुरा हाल, सोशल मीडिया पर छलक रहा है दर्द !

कोरोना की ये आग हज़ारों चिताओं को जला रही है और इस आग में ख़ुद सत्ताधारी बीजेपी के विधायक, सांसद, नेता और कार्यकर्ता तक शामिल हैं। आलम ये है कि विधायक, सांसद और टॉप ब्यूरोक्रेट्स सिस्टम से थककर सोशल मीडिया पर मदद की गुहार लगा रहे हैं।

288
0
blank
www.theshudra.com

आपका सहयोग हमें सशक्त बनाएगा

# हमें सपोर्ट करें

Rs.100  Rs.500  Rs.1000  Rs.5000  Rs.10,000

मरहूम शायर राहत इंदौरी साहब का एक शेर है ‘लगेगी आग तो आएँगे कई घर ज़द में, यहाँ पर सिर्फ़ हमारा मकान थोड़ी है’… राहत साहब ने जिन लोगों को इस शेर के मायने समझाने की कोशिश की थी, आज उनके घर जल रहे हैं। क्योंकि जब मोहल्ले में आग लगी तो वो इस बात से खुश थे कि मुसलमानों का घर जल रहा है, दलितों और आदिवासियों का घर जल रहा है… औरों का घर जलता हुआ देख वो ये भूल गए थे कि उनका अपना मकान भी किसी मुसलमान के घर से सटा हुआ है और उसके घर की आग उनके घर को भी पकड़ सकती है। मोदी राज की नाकामियों के कारण बेक़ाबू हो चुकी कोरोना की ये आग उसी नासमझी का नतीजा है। कोरोना की ये आग हज़ारों चिताओं को जला रही है और इस आग में ख़ुद सत्ताधारी बीजेपी के विधायक, सांसद, नेता और कार्यकर्ता तक शामिल हैं। आलम ये है कि विधायक, सांसद और टॉप ब्यूरोक्रेट्स सिस्टम से थककर सोशल मीडिया पर मदद की गुहार लगा रहे हैं।

नाम – विनीत अग्रवाल
पद – संयोजक, यूपी बीजेपी व्यापार प्रकोष्ठ और सदस्य, यूपी बीजेपी कार्य समिति

एक सांस में कमल-कमल और रैली में नमो-नमो बोलकर रिकॉर्ड बना चुके हैं यूपी बीजेपी के ‘भाजपा व्यापार प्रकोष्ठ’ के संयोजक और प्रदेश कार्यसमिति के सदस्य विनीत अग्रवाल ने मदद मांगने के लिए यूपी के स्वास्थ्य मंत्री जय प्रताप सिंह को कॉल किया था लेकिन उन्हें वहां से ऐसा जवाब मिला कि उनका दर्द सोशल मीडिया पर छलक पड़ा। अपने ट्वीट में उन्होंने लिखा ‘आदरणीय मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ जी अभी मैंने स्वास्थ्य मंत्री जयप्रताप जी से फ़ोन पर वार्ता की हमारे 2 मरीज़ आगरा प्रभा हॉस्पिटल में एडमिट हैं। उन्हें रेमेडेसिविर इंजेक्शन की ज़रूरत है। मन्त्री जी ने बहुत गन्दा जवाब दिया जो कि इंसानियत को शर्मिन्दा करने वाला है। आप कुछ कर सकें ??’

यूपी बीजेपी के ‘भाजपा व्यापार प्रकोष्ठ’ के संयोजक विनीत अग्रवाल का ट्वीट

लेकिन अब नमो-नमो की सरकार उनके किसी काम नहीं आ रही… अब ज़रा सोचिए, जिस यूपी में सत्ताधारी पार्टी के बड़े नेताओं का ये हाल है, वहां आम जनता किस हाल में होगी?

नाम – डॉ इंदू भूषण
पद – पूर्व CEO, आयुष्मान भारत प्रोजेक्ट, पूर्व CEO नेशनल हेल्थ अथॉरिटी

डॉ इंदू भूषण वही आदमी है जो चार साल तक मोदी सरकार के आयुष्मान भारत प्रोजेक्ट का CEO रहा है और नेशनल हेल्थ अथॉरिटी का मुखिया रहा है… यानी देश की हेल्थ पॉलिसी बनाने की जिम्मेदारी इसी IAS अफसर पर थी। अब इनका एक ट्वीट देखिए। उन्होेंने ट्विटर पर लिखा ‘हमारे आसपास जो हो रहा है वो आत्मा को झकझोर देने वाला है। मैं जिसे भी जानता हूँ उसके परिवार में एक कोविड मरीज़ है या परिवार में एक की मौत हो चुकी है। मुझे आजकल फ़ोन कॉल से डर लगने लगा है क्योंकि सब अस्पताल में बेड दिला देने की मदद माँग रहे हैं। ज़्यादातर मामलों में नाकाम रहता हूँ।’

डॉ इंदू भूषण का ट्वीट

डॉ इंदू भूषण पर ये ज़िम्मेदारी थी कि वो बेहतर हेल्थ पॉलिसी बनाते लेकिन वो नाकाम रहे और अब वो ख़ुद इसका शिकार हो रहे हैं। 30 दिसंबर 2020 को तो डॉ इंदू भूषण ने ये तक कह दिया था कि जब लोगों में कोरोना से लड़ने के लिए ख़ुद ही Herd Immunity बन रही है तो फिर वैक्सीन के लिए खर्चा क्यों किया जाए? उम्मीद है अब डॉ इंदू भूषण अपने कारनामों और ग़लत नीतियों के लिए भी देश से ज़रूर माफ़ी माँगेंगे।

नाम – कौशल किशोर
पद – सांसद, बीजेपी

यूपी के सीएम योगी आदित्यनाथ कह रहे हैं कि राज्य में ऑक्सीजन की कोई कमी नहीं है और जो भी इस बारे में अफ़वाह फैला रहा है, उनकी संपत्ति ज़ब्त कर ली जाए…. लेकिन उन्हीं की पार्टी के एक सांसद ने योगी के दावों की पोल खोल दी। यूपी के मोहनलाल गंज से बीजेपी सांसद कौशल किशोर ने कहा है कि ऑक्सीजन की कमी से वो इतना परेशान हो गए हैं कि अपनी ही सरकार के ख़िलाफ़ धरने पर बैठने की सोच रहे हैं।

बीजेपी सांसद कौशल किशोर के भाई की मौत भी कोरोना की वजह से हो गई।

हक़ीक़त क्या है, ये ख़ुद बीजेपी के नेता बता रहे हैं लेकिन अहंकारी सरकार इस बात को मानने तक को तैयार नहीं है। बीजेपी सांसद कौशल किशोर के भाई ने भी कोरोना की वजह से दम तोड़ दिया… आप एक सांसद की लाचारी का अंदाज़ा लगा सकते हैं।

नाम – निघत अब्बास
पद – प्रवक्ता, दिल्ली बीजेपी

कोरोना काल में भी राम मंदिर के लिए से ज़्यादा से ज़्यादा दान देने की अपील करने वाली दिल्ली बीजेपी की प्रवक्ता निघत अब्बास अब ट्विटर पर ऑक्सीजन सप्लाई करने की गुहार लगा रही हैं। उन्हें यूपी के ग्रेटर नोएडा में तुरंत ऑक्सीजन सिलेंडर चाहिए लेकिन ख़ौफ़ देखिए…वो योगी आदित्यनाथ को टैग तक नहीं कर सकती।

निघत अब्बास का ट्वीट

नाम – हाजी अनवार अहमद अंसारी।
पद – अध्यक्ष भाजपा अल्पसंख्यक मोर्चा, काशी क्षेत्र, यूपी

पीएम मोदी के संसदीय क्षेत्र वाराणसी उर्फ़ क्योटो के रहने वाले हाजी अनवार अहम अंसारी ने पिछले साल लॉकडाउन में पीएम मोदी की जमकर तारीफ़ की थी। जवाब में पीएम मोदी ने भी ट्वीट कर हाजी अनवार अहमद अंसारी की तारीफ़ की… लेकिन झूठी तारीफ़ों के इस खेल में हाजी अपनी भाभी को अस्पताल में एक बेड तक नहीं दिला पाए और उनकी भाभी की मौत हो गई। उन्होंने अपनी फ़ेसबुक पोस्ट में लिखा ‘बनारस में बेड की कमी की वजह से 17.04.2021 को मेरी भाभी का इंतकाल हो गया, जबकि संगठन के मानिंद लोगों को कॉल भी किया लेकिन किसी ने एक बेड तक का इंतजाम नहीं करवाया। जब हम लोगों की ये हालत है, तो आम आदमी का क्या होगा? ऊपर वाला ही अपना रहम करे, नीचे वाले तो पत्थर दिल हैं। अगर समय पर इलाज मिलता, तो शायद उनकी जान बच जाती। मेरे प्यारे भाइयों और बहनों अपना ख्याल रखो, नहीं तो खुदा ना करे ऐसा किसी के साथ हो, इलाज के बगैर ही दम तोड़ देगा मरीज।अल्लाह पाक मरहूमा की मगफिरत करे।’

नफरती लोग चाहें तो अपनी ही पार्टी के नेता की मरहूम भाभी का मज़हब देखकर कह सकते हैं कि मुसलमानों के साथ ऐसा ही होना चाहिए। शायद आप ऐसा ही तो हिंदू राष्ट्र चाहते हैं लेकिन याद रखिए इस आग में आपका घर भी नहीं बच पाएगा। यूपी की राजधानी लखनऊ से बीजेपी के विधायक सुरेश श्रीवास्तव का कोरोना से निधन हो गया। दो दिन बाद पत्नी भी चली गईं और अब बेटा भी कोरोना से जंग लड़ रहा है। कोरोना का वायरस लोगों में फ़र्क़ नहीं कर रहा।

यूपी के ही औरैया से बीजेपी विधायक रमेश चंद्र दिवाकर की मौत भी कोरोना की वजह से हो गई। अगर अंधभक्तों को लग रहा है कि वो सुरक्षित हैं और आग सिर्फ़ पड़ोसी के घर में लगी है तो इन ख़बरों को एक बार फिर से पढ़ लें। इस आग में तो ख़ुद बीजेपी नेता, विधायक, सांसद और कार्यकर्ता भी जल रहे हैं। उनका हाल भी जनता की तरह ही बेहाल है। लगातार ख़बरें आ रही हैं लेकिन आपको शायद अभी अपने क़रीबियों की ऐसी ख़बर आने का इंतज़ार है। अभी शायद आपको और तबाही देखनी है। मरणासन्न पड़े भारत की पीठ पर सिस्टम चलाने वाली मोदी सरकार बैठी है और देशवासियों की साँसें टूट रही हैं। अब भी नहीं जागे तो भला कब जागोगे?

  telegram-follow   joinwhatsapp     YouTube-Subscribe

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here