Home वीडियो गूगल में जातिवाद : सवर्ण कर्मचारियों ने नहीं होने दी ‘जाति की...

गूगल में जातिवाद : सवर्ण कर्मचारियों ने नहीं होने दी ‘जाति की समस्या’ पर चर्चा

सवर्ण कर्मचारियों ने सुंदरराजन को एंटी-हिंदू कहते हुए जाति की समस्या पर बात ना करने मांग की और गूगल ने इसके बाद उस चर्चा को ही रद्द कर दिया।

236
0
blank
www.theshudra.com

सर्च इंजन कंपनी गूगल पर जातिवाद को बढ़ावा देने का आरोप लगा है। अमेरिका स्थित गूगल के दफ्तर में जाति की समस्या पर होने वाली एक चर्चा को गूगल ने रद्द कर दिया जिसके बाद गूगल के सवर्ण अधिकारियों और कर्मचारियों पर सवाल खड़े हो रहे हैं।

क्या है पूरा मामला ?

दरअसल गूगल की ओर से एंटी कास्ट एक्टिविस्ट और इक्वैलिटी लैब की संस्थापक थिनमोझी सुंदरराजन को ‘जाति की समस्या’ पर चर्चा के लिए आमंत्रित किया गया था। सुंदराजन को काम की जगह पर जातिवाद से बचने और जातिवाद से होने वाली समस्याओं पर गूगल के कर्मचारियों को एक प्रेजेंटेशन देनी थी लेकिन गूगल के 7 सवर्ण कर्मचारियों ने सुंदराजन के खिलाफ गूगल के अधिकारियों को ईमेल भेजे कि उन्हें ना बुलाया जाए। सवर्ण कर्मचारियों ने सुंदरराजन को एंटी-हिंदू कहते हुए जाति की समस्या पर बात ना करने मांग की और गूगल ने इसके बाद उस चर्चा को ही रद्द कर दिया।

गूगल के CEO सुंदर पिचाई पर भी गंभीर आरोप

गूगल के सबसे बड़े अधिकारी सुंदर पिचाई भारतीय मूल के तमिल ब्राह्मण हैं और अब उनपर भी जातिवाद को बढ़ावा देने का आरोप लग रहा है। लोग कह रहे हैं कि जाति की समस्या से बखूबी वाकिफ सुंदर पिचाई ने ऐसा करके जाति भेद को बनाए रखने का ही काम किया है जो काम की जगह पर होने वाले जातिवाद पर बात ही नहीं करना चाहते। सुंदरराजन ने इस बारे में सुंदर पिचाई को बाकायदा ईमेल किया लेकिन उन्होंने ईमेल का कोई जवाब नहीं दिया।

गूगल की कर्मचारी ने दिया इस्तीफा 

गूगल में इस तरह से जाति की समस्या पर आयोजित चर्चा के रद्द होने के खिलाफ गूगल की कर्मचारी तनुजा गुप्ता ने कंपनी से इस्तीफा दे दिया है। पूरे अमेरिका में गूगल की इस जातिवादी हरकत की कड़ी निंदा हो रही है। अमेरिका के सबसे बड़े अखबारों में गूगल के इस भेदभावपूर्ण कदम पर खबरें प्रकाशित हो रही हैं। इस बारे में और ज्यादा जानने के लिए नीचे दिए गए लिंक पर क्लिक कर वीडियो देखें।

  telegram-follow   joinwhatsapp     YouTube-Subscribe

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here