Home वीडियो यूपी पंचायत चुनाव में धांधली के सबूत ? AAP और ASP ने...

यूपी पंचायत चुनाव में धांधली के सबूत ? AAP और ASP ने चुनाव आयोग पर लगाए गंभीर आरोप

क्या यूपी पंचायत चुनाव में हुई वोटों की हेराफेरी ? पहले जीतने वाले उम्मीदवार अचानक कैसे हार गए ? ये वो सवाल हैं जो यूपी पंचायत चुनाव के नतीजे आने के बाद उठ खड़े हुए हैं

295
0
blank

आपका सहयोग हमें सशक्त बनाएगा

# हमें सपोर्ट करें

Rs.100  Rs.500  Rs.1000  Rs.5000  Rs.10,000

क्या यूपी पंचायत चुनाव में हुई वोटों की हेराफेरी ? पहले जीतने वाले उम्मीदवार अचानक कैसे हार गए ? ये वो सवाल हैं जो यूपी पंचायत चुनाव के नतीजे आने के बाद उठ खड़े हुए हैं। विधानसभा चुनाव से ठीक 8 महीने पहले ग्रामीण इलाक़ों से आए नतीजों ने सत्ताधारी बीजेपी के होश उड़ा दिए हैं।

समाजवादी पार्टी का दिखा दम

BJP-580 सीटों के साथ दूसरे नंबर रही तो SP-781 सीटों के साथ यूपी की सियासत में सबसे बड़ी पार्टी बनकर उभरी। वहीं BSP-361 सीटें ही जीत पाई। ग्रामीण जनता ने तो कांग्रेस को पूरी तरह नकार दिया और CONG-59 सीट ही जीत पाई जबकि अन्य के खाते में 1269 सीटें गई।

लेकिन इन नतीजों के साथ-साथ ये भी आरोप लग रहा है कि चुनाव आयोग के कर्मचारियों ने वोटों की गिनती में जमकर धांधली की है। आजाद समाज पार्टी से लेकर आम आदमी पार्टी तक, कई दलों ने आरोप लगाया है कि पहले उनके उम्मीदवार को जीता हुआ बताया गया और बाद में वोटों की गड़बड़ी कर बीजेपी समर्थित उम्मीदवार को जीता दिया गया।  

AAP ने जारी की ऑडियो क्लिप

यूपी AAP के उपाध्यक्ष फैस़ल लाला ने तो बाकायदा एक ऑडियो क्लिप जारी कर दावा किया कि पीलीभीत में वार्ड नंबर 20 से AAP प्रत्याशी मौ.ज़फ़र 700 वोट से चुनाव जीते थे जिसकी पुष्टि खुद रिटर्निंग ऑफिसर ने की थी लेकिन बाद में विधायक के दबाव में बीजेपी के उम्मीदवार को जीता दिया। 

हम इस ऑडियो की पुष्टि तो नहीं करते लेकिन अगर इस ऑडियो में कही गई बातें सच हैं तो ये बेहद गंभीर मामला है। AAP के अलावा चंद्रशेखर आज़ाद की पार्टी ASP ने भी चुनाव आयोग पर धांधली का आरोप लगाया है।

चंद्रशेखर ने इस बारे में ट्विटर पर लिखायूपी पंचायत चुनाव में आये जनादेश को भाजपा स्वीकार नही कर पा रही है। इसीलिए सत्ता का दुरुपयोग करते हुए विपक्ष के जीते हुए प्रत्याशियों को जबरन हरा रही है। ये लोकतंत्र की हत्या है। दुखद है कि चुनाव आयोग और सरकारी महकमा कठपुतली बना हुआ है। याद रहे कि यूपी में योगी सरकार 1 साल की है।

अपने दूसरे ट्वीट में उन्होंने लिखा जिला अम्बेडकर नगर में वार्ड -10 से ASP प्रत्याशी राजेंद्र गौतम जी बहुमत से जीत चुके हैं लेकिन प्रशासन उन्हें सर्टिफिकेट नहीं दे रहा है। ये लूट किसी भी कीमत पर बर्दाश्त नही की जायेगी। अंबेडकर नगर जिला संगठन के साथी तैयारी करे अपने अधिकार छीनने नही देंगे

चंद्रशेखर ने आज़मगढ़ और आंबेडकरनगर में भी अपने प्रत्याशी के जीतने का दावा किया और चुनाव आयोग पर गंभीर आरोप लगाए। कुल मिलाकर यूपी में हुए तीन स्तरीय पंचायती चुनावों के नतीजों ने यूपी की योगी सरकार के ख़िलाफ़ जनादेश दिया है लेकिन अगर इस तरह की धांधलेबाजी हुई है तो ये ना सिर्फ़ लोकतंत्र के साथ मज़ाक़ है बल्कि यूपी की जनता के जनादेश के साथ भी धोखा है।

ब्यूरो रिपोर्ट, द न्यूज़बीक 

  telegram-follow   joinwhatsapp     YouTube-Subscribe

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here