Home ट्रेंडिंग महार रेजिमेंट के जवान ने अमेरिका में रचा इतिहास, अविनाश साबले ने...

महार रेजिमेंट के जवान ने अमेरिका में रचा इतिहास, अविनाश साबले ने तोड़ा 30 साल पुराना रिकॉर्ड

अविनाश साबले ने 13 मिनट और 25:65 सेकंड का समय लेकर एक नया राष्ट्रीय रिकॉर्ड बनाया।

215
0
blank
अविनाश साबले (Photo by @Media_SAI)

ये तस्वीरें गर्व की हैं… ये तस्वीरें इतिहास रचने की हैं… और ये तस्वीरें सफलता तक पहुँचने के लिए किए गए संघर्ष की हैं। भारतीय सेना की महार रेजीमेंट के नायब सूबेदार अविनाश साबले ने अमेरिका के इनविटेशन कप में 5000 मीटर दौड़ में नया रिकॉर्ड बना दिया।

30 साल पुराना रिकॉर्ड तोड़ा 

अविनाश साबले ने 13 मिनट और 25:65 सेकंड का समय लेकर एक नया राष्ट्रीय रिकॉर्ड बनाया। उन्होंने 1992 में ब्रिटेन में बनाए गए बहादुर प्रसाद के 30 साल पुराने राष्ट्रीय रिकॉर्ड को तोड़ दिया। भारतीय खेल प्राधिकरण की ओर से ये जानकारी साझा की गई।

महाराष्ट्र के रहने वाले हैं अविनाश 

27 साल के अविनाश साबले महाराष्ट्र के बीड़ जिले के माढ़वा गाँव के रहने वाले हैं। अविनाश रिकॉर्ड तोड़ने के लिए मशहूर हैं, टॉक्यो ओलंपिक खिलाड़ी अविनाश 3000 मीटर की स्टेपल चेज़ दौड़ में 7 रिकॉर्ड तोड़ चुके हैं। पहली बार साबले का नाम तब सामने आया था जब उन्होंने गोपाल सैनी का 37 साल पुराना रिकॉर्ड तोड़ा था। अविनाश के नाम राष्ट्रीय हाफ़ मैराथन का भी रिकॉर्ड है। 

नॉर्वे के खिलाड़ी ने जीती दौड़ 

बीते शुक्रवार को अमेरिका में आयोजित इंविटेशन कप में अविनाश ने इतिहास ही रच दिया, ये बड़ी बात इसलिए भी है क्योंकि 5000 मीटर दौड़ में अविनाश का ये दूसरा मुक़ाबला था। टोक्यो ओलंपिक में 1500 मीटर दौड़ में नॉर्वे के गोल्ड मेडलिस्ट Jakob Ingebrigtsen ने 13 मिनट 2.03 सेकंड में दौड़ जीत ली लेकिन अविनाश के प्रदर्शन ने हर किसी का दिल जीत लिया। 

अविनाश साबले की यात्रा असाधारण रही है

7 साल पहले वो भारतीय सेना में बतौर हवलदार सियाचीन में तैनात थे। फिर उन्हें पाकिस्तान बॉर्डर के पास लालगढ़ जट्टां में भेजा गया। कभी 12 किलोमीटर पैदल चलकर स्कूल पहुँचने वाले अविनाश की ज़िंदगी में बड़ा बदलाव तब आया जब आर्मी की ओर से आयोजित क्रॉस कंट्री दौड़ में उन्होंने हिस्सा लिया था। तब से लेकर अब तक वो लगातार सफलता की दौड़ लगाते जा रहे हैं। उनके नाम भारत का बेस्ट ट्रैक एथलीट होने का रिकॉर्ड है।

अविनाश साबले से बंधी सबकी उम्मीदें  

एथेलेटिक्स फेडरेशन ऑफ इंडिया चाहती थी कि अविनाश एशियन गेम्स चाइना में 3000 और 5000 मीटर दौड़े लेकिन एशियन गेम्स कोरोना की वजह से टल चुके हैं लेकिन अविनाश की कामयाबी को देखते हुए हर कोई यही उम्मीद कर रहा है कि आने वाले मुक़ाबलों में वो देश का नाम यूँ ही रौशन करते रहेंगे।

ब्यूरो रिपोर्ट, द न्यूज़बीक 

  telegram-follow   joinwhatsapp     YouTube-Subscribe

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here