Home बहुजन आइकन गुरु रविदास जयंती : बहुजन नेताओं ने यूं किया संत शिरोमणि को...

गुरु रविदास जयंती : बहुजन नेताओं ने यूं किया संत शिरोमणि को याद

गुरु रविदास महाराज की जयंती पर पूरा देश गुरु रविदास की शिक्षाओं को याद करते हुए उन्हें नमन कर रहा है। आम लोग सोशल मीडिया के ज़रिए महान संत रविदास की शिक्षाओं को शेयर कर रहे हैं तो वहीं तमाम नेता भी संत रविदास को नमन कर रहे हैं।

1011
0
blank
समतामूलक समाज की कल्पना करने वाले संत गुरु रविदास महाराज की जयंती पर आप सबको बधाई।

ऊंच-नीच, भेदभाव और गैर-बराबरी रहित समतामूलक समाज की कल्पना करने वाले संत गुरु रविदास महाराज की जयंती पर पूरा देश गुरु रविदास की शिक्षाओं को याद करते हुए उन्हें नमन कर रहा है। आम लोग सोशल मीडिया के ज़रिए महान संत रविदास की शिक्षाओं को शेयर कर रहे हैं तो वहीं तमाम नेता भी संत रविदास को नमन कर रहे हैं।

BSP सुप्रीमो मायावती ने ट्विटर पर लिखा ‘’मन चंगा तो कठौती में गंगा’ का अमर मानवतावादी संदेश देने वाले महान संतगुरु रविदास जी की जयन्ती पर उन्हें शत्-शत् नमन व देश व दुनिया में रहने वाले उनके करोड़ों अनुयाईयों को हार्दिक बधाई व शुभकामनाएं। संतगुरु ने अपना सारा जीवन आदमी को इन्सान बनाने के प्रयास में गुज़ारा।’

अपने दूसरे ट्वीट में मायावती ने लिखा ‘बीएसपी की यूपी में चार बार बनी सरकार में संतगुरु रविदास जी के सपनों को साकार करने का भरसक प्रयास हुआ व उनके सम्मान में जो जनहित व जनकल्याण का काम यहाँ किया गया वह किसी से छिपा नहीं है। केन्द्र व राज्य सरकारें उनके बताए रास्ते पर चलकर समाज व देश का भला करें तो यह उचित होगा’

वहीं दिल्ली के सामाजिक कल्याण मंत्री राजेंद्रपाल गौतम ने लिखा ‘”रविदास जन्म के कारनै, होत न कोउ नीच नकर कूं नीच करि डारी है, ओछे करम की कीच” ऊंच नीच और गैर बराबरी की सामाजिक व्यवस्था पर जबरदस्त कुठाराघात करने वाले महान बहुजन संत शिरोमणि रविदास जी की जयंती पर उन्हें कोटि-कोटि नमन।’

भीम आर्मी चीफ चंद्रशेखर आज़ाद ने भी संत शिरोमणि गुरु रविदास जी को याद करते हुए ट्विटर पर लिखा ‘समाज में व्याप्त ऊंच – नीच, भेद – भाव , पाखंड, आडंबर को दूर कर समानता व भाई चारे का संदेश देने वाले – संत शिरोमणि सतगुरु रविदास महाराज जी की जयंती पर सभी देशवासियों को लख लख बधाइयां।’

  telegram-follow   joinwhatsapp     YouTube-Subscribe

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here